Ram Vilas Paswan Death || केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन

Google, Wikipedia & Youtube
Author Ram Vilas Paswan

The 74-year-old LJP patron was admitted with heart failure and kidney shutdown and was managed with medication and subsequently by dialysis. Paswan's death just on the eve of Bihar elections will add an emotive element to the campaign, with his son Chirag having decided that LJP will contest separate from NDA .

Important: केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का गुरुवार को निधन हो गया है। 74 साल की उम्र में उन्होंने अंतिम सांस ली। इस बात की जानकारी उनके बेटे व लोजपा के अध्यक्ष चिराग पासवान ने दी। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'पापा....अब आप इस दुनिया में नहीं हैं लेकिन मुझे पता है आप जहां भी हैं हमेशा मेरे साथ हैं।' .



RAM VILAS PASWAN DIED



Union Minister for Food and Consumer Affairs Ram Vilas Paswan passed away on Thursday night due to prolonged heart ailment at the Fortis Escorts Hospital in New Delhi. He was 74. He had been admitted to the hospital for over a month. Known as the weather vane of Indian politics, Mr. Paswan had worked as a Minister in Union governments under six Prime Ministers with governments of all colours — from the United Front government of Deve Gowda to the Manmohan Singh-led United Progressive Alliance government to the current Narendra Modi-led National Democratic Alliance government. .!



RAMVILAS PASWAN DEATH NEWS: केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन, पटना में कल होगा अंतिम संस्‍कार



केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान अब इस दुनिया में नहीं रहे। उनके बेटे और लोक जनशक्ति पार्टी अध्यक्ष चिराग पासवान ने गुरुवार की शाम को उनके निधन के बारे ट्वीट कर जानकरी दी। चिराग ने अपने बचपन का एक फोटो ट्वीट किया, जिसमें वे पासवान के गोद में बैठे हैं और लिखा है- "पापा... अब आप इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन मुझे पता है कि आप जहां भी हैं हमेशा मेरे साथ है।" 74 वर्षीय रामविलास पासवान पिछले कुछ हफ्तों से बीमार चल रहे थे और दिल्ली के साकेत स्थित अस्पताल में भर्ती थे। उनके पास केन्द्रीय खाद्य एवं आपूर्ति मंत्रालय था। रामविलास पासवान पिछले पांच दशक से भी ज्यादा वक्त से राजनीतिक में सक्रिय थे और देश के सबसे बड़े दलित नेताओं में उनकी पहचान होती थी। .!




Disclaimer: This site does not store any files on its server. All contents are provided by non-affiliated third parties.


Comments